CM Yogi Adityanath biography in hindi, full name, jeevan parichay, qualification, cast

हेलो दोस्तों, आज हम भारत के सबसे चर्चित राजनेता “yogi adityanath biography in hindi” पढ़ने वाले हैं। इस लेख में इनके जन्म से लेकर योगी बनने तक का सफर और फिर मुख्यमंत्री पद सँभालने तक की पूरी जानकारी दी गई हैं। 

इसके अतिरिक्त, इनके परिवार, पत्नी, बच्चे, गुरु, राजनैतिक जीवन, आदि के बारे में सम्पूर्ण जानकारी दी गई हैं। 

Yogi Adityanath biography in Hindi
Yogi Adityanath biography in Hindi (Pic & images)

Quick biography of Yogi Adityanath (मुख्य बिंदु) :

  • नाम – योगी आदित्यनाथ 
  • जन्मनाम – अजय सिंह बिष्ट 
  • जन्म – 5 जून 1972 
  • स्थान – पौरी गढ़वाल (उत्तरप्रदेश) 
  • पिता – आनन्द सिंह बिष्ट 
  • माता – सावित्री देवी 
  • पत्नी – अविवाहित 
  • राजनैतिक दल – भाजपा  
  • राजनैतिक पद – मुख्यमंत्री (उ० प्र०)
  • आयु – 48 वर्ष (2020 में) 

Mathematician Aryabhatta in Hindi

Yogi Adityananth biography in hindi (जीवन परिचय) :

भाजपा के स्टार प्रचारक योगी आदित्यनाथ का जन्म 5 जून 1972 को उत्तरप्रदेश स्थित पौरी गढ़वाल के पंचुर गांव के एक क्षत्रिय परिवार में हुआ था। इनका full name  “अजय मोहन बिष्ट” हैं। इनका पिता का नाम “आनंद सिंह बिष्ट” तथा माता का नाम “सावित्री देवी” हैं। 

ये वैसे तो बेहद शांत स्वाभाव के हैं लेकिन, इनकी माता बताती हैं की ये बचपन में बेहद ज़िद्दी स्वाभाव के थे। ये शुरवात से ही राजनीती में उतरना चाहते थे। वर्ष 1993 में ये अपना घर छोड़कर राम मंदिर आंदोलन से जुड़ गए और यहीं से इनके राजनितिक व् आध्यत्मिक जीवन की शुरवात हुई। 

अपने पूरे राजनितिक करियर में कई उतार चढ़ाव देखने के बाद, इनकी छवि एक सामर्थ्यवान नेता के रूप में बनी। जिस कारन इन्हे उत्तरप्रदेश का 21वां मुख्यम्नत्री बनने का सौभाग्य भी प्राप्त हुआ। 

इनके जीवन से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां निचे दी गई हैं। 

Yogi Adityanath family, parents, wife, son, daughter, brothers, sisters (परिवार) :

वैसे तो योगी आदित्यनाथ ने सिर्फ 21 साल की उम्र में ही अपना घर छोड़ दिया था। इसलिए इनके परिवार से सम्बंधित जानकारियां मीडिया या समाचार पत्रों में नहीं आती। लेकिन, हम आपको इनके परिवार के सभी सदस्यों के बारे में पूरी जानकारी देने का प्रयास किया हैं। 

इनके पिता “अजय मोहन बिष्ट”, एक वन विभाग के कर्मचारी थे। लेकिन, 19 अप्रैल 2020 को इनकी दुखद मृत्यु हो गई। अपने राजनितिक कर्तव्यों में व्यस्त होने के कारण योगी आदित्यनाथ, इनके अंतिम दर्शन भी नहीं कर पाए।

Dr. Sarvepalli Radhakrishnan ki Jivani

इनकी माता “सावित्री देवी” एक धार्मिक महिला हैं। योगी के 4 भाई और 3 बहनें भी हैं। इनके भाइयों का नाम “महेंद्र सिंह बिष्ट”, “मानवेन्द्र मोहन”, “शैलेन्द्र मोहन” तथा इनकी बहन का नाम “साक्षी सिंह” हैं। 

योगी अपने माता – पिता की दूसरी नंबर की संतान हैं। 

Yogi Adityanath educational qualifications (शिक्षा) :

इन्हे बचपन से ही पढाई करना और किताबें पढ़ना बेहद पसंद रहा, इन्होनें बचपन से लेकर अब तक जितनी भी किताबें पढ़ी, उन्हें संभालकर अपने पुस्तकालय में सजा दिया।

स्थानीय विद्यालय से  प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद, इन्होनें उत्तराखंड के “हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय” से गणित के क्षेत्र में स्नातक की डिग्री ली। 

लेकिन, योगी आदित्यनाथ तो राजनीती में अपना नाम बनाना चाहते थे। 

Yogi Adityanath guru (गुरु महंत अवैध्यनाथ) :

सन् 1993 में ये घर छोड़ कर, राम मंदिर आंदोलन से जुड़ गए और अपना सम्पूर्ण योगदान दिया। इसी दौरान इनकी भेंट गोरखपुर मठ के प्रमुख “महंत अवैद्यनाथ” से हुई। ये महंत अवैद्यनाथ के विचारों से बेहद प्रभावित हुए और एक सन्यासी बनने का निर्णाय ले लिया। 

जब ये अपना घर छोड़ कर जा रहे थे तो अपने परिवार से कहा की, शहर में नौकरी ढूंढने जा रहे हैं। इसके बाद सन् 1993 से 1998 तक इनकी धार्मिक शिक्षा पूरी हुई और इन्हें “योगी आदित्यनाथ” नाम दिया गया। 

इनके इस फैसले से परिवार वाले बहुत दुखी हुए, लेकिन बहुत समझने पर सब मान गए। योगी आज भी अपने परिवार वालों से मिलते जुलते रहते और कई पारिवारिक कार्यक्रमों में शामिल भी होते हैं। 

12 सितम्बर 2014 को “महंत अवैद्यनाथ” का निधन हो गया। जिसके बाद योगी आदित्यनाथ को गोरखपुर मठ का महंत घोषित कर दिया गया।  लेकिन, इन्होनें महंत उपाधि को अस्वीकार कर दिया।  

Gautam Buddha History in Hindi

Political Career (राजनितिक जीवन) :

उस समय यदि किसी को एक सफल राजनेता बनना हो तो, कॉलेज राजनीती में सक्रीय रहना पड़ता था। तब आदित्यनाथ ने सन् 1992 में “अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद्” से चुनाव टिकट की मांग की। लेकिन, उन्हें निराशा हाथ लगी, तब क्रोधित होकर इन्होने निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला किया और हार का सामना करना पड़ा। 

लेकिन, इन्होनें हार नहीं मानी और चुनाव लड़ते रहे। सन् 1998 में, ये महज़ 26 साल की आयु में गोरखपुर सीट से लोक सभा के सदस्य बने और लगातार 5 बार (सन् 1998 से 2014 तक) विजय हुए। इन्होने गोरखपुर के अपने 

वैसे तो इन्हे सारे राजनैतिक पद भाजपा के कारन ही मिले। लेकिन, शुरवाती राजनितिक जीवन में ये भाजपा के विरोधी नेता के रूप में उभरे। इन्होनें हिन्दू सभ्यता की रक्षा के लिए, “हिन्दू युवा वाहिनी” नामक संगठन की स्थापना की। 

तब बीजेपी के वरिष्ठ नेता, जैसे लाल कृष्ण आडवाणी, RSS प्रमुख राजेंद्र सिंह, “विश्व हिन्दू परिषद्” के अध्यक्ष अशोक सिंघल ने गोरखपुर में योगी आदित्यनाथ से चर्चा की। 

Yogi Adityanath love for cows (गायों के प्रति प्रेम) :

योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में अपनी एक गौशाला का भी निर्माण कराया। जिसमें 70 से 80 गायें बिना किसी बंदिश के घूमती रहती हैं। इन्होनें हर गाय को एक नाम भी दिया हुआ हैं और हर गाय इनसे बेहद प्रेम भी करती हैं। 

इनका पशु – पक्षी और प्रकृति के प्रति प्रेम कभी किसी से छुपा नहीं हैं। मिडिया और समाचार पत्रों में भी इनकी कई तस्वीरें आती रहती हैं जिसमे ये अलग – अलग पशुओं के साथ नज़र आते हैं। 

CM Yogi Adityanath (मुख्यमंत्री) :

कई सालों तक गोरखपुर से सांसद रहने के बाद साल 2017 में उत्तरप्रदेश चुनाव प्रचार में ये मुख्या भूमिका में नज़र आए। 

इनके साथ पार्टी के समस्त कार्यकर्ताओं की मेहनत रंग लाई और बीजेपी ने बहुत बड़ी जीत दर्ज़ की, जिसके बाद सर्वसहमति से योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री पद के लिए बेहतर विकल्प माना।

18 मार्च 2017 को, आदित्यनाथ ने उत्तरप्रदेश के 21वां मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की। मुख्यमंत्री बनते ही इन्होनें कई बड़े फैसले करना शुरू कर दिया। जैसे – अवैध बूचडख़ाने परप्रतिबन्ध, एंटी-रोमियो दाल का गठन, छोटे और निचले किसानों का लाखों रूपए का कर्ज़ा माफ़।

Final words on Yogi Adityanath biography in hindi :

दोस्तों, हमे उम्मीद हे की आपको CM Yogi Adityanath biography in hindi पढ़कर बहुत सारी जानकारी मिली होगी।

इस लेख में हमने yogi adityanath ki jivani  के साथ साथ yogi adityanath full name, date of birth,  height, cast, family, wife, daughter, brother (manvendra mohan) आदि की भी  संक्षिप्त जानकारी देने का प्रयास किया। 

यदि आपको ये लेख जानकारीपूर्ण लगा हो तो, इसे अपने साथियों के साथ अवश्य साझा करें। 

धन्यवाद!!

Leave a Comment